Prem Krishna Khanna (1894 – 1993) – Freedom Fighter

Spread Love

Prem Krishna Khanna स्वतंत्रता के लिए एक महान सेनानी और एक क्रांतिकारी थे जो हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन से निकटता से जुड़े हुए हैं।

हिंदुस्तान गणतंत्र संघ एक क्रांतिकारी संगठन था जिसकी स्थापना 1928 में नई दिल्ली में Chandrasekhar AzadBhagat Singh, और अन्य लोगों ने की थी।

Prem Krishna Khanna क्रांति के महान कार्यकर्ताओं में से एक थे जिन्होंने इस क्रांतिकारी संगठन में सक्रिय रूप से भाग लिया और इस देश की स्वतंत्रता की सेवा की।

वह Ram Prasad Bismil and Ashfaqualla Khan के साथ अपने जुड़ाव के लिए प्रसिद्ध थे। बिस्मिल के नेतृत्व में Krishna Khanna 9 सहयोगियों में से एक थे।

Prem Krishna Khanna Biography


Name Prem Krishna Khanna
Date of Birth 2nd January 1894
Birth Place Lahore, Pakistan
Organization Associated Hindustan Socialist Republican Association
Party Indian National Congress
Father Ram Krishna Khanna
Date of Death 3rd August 1993
Death Place Shahjahanpur, Uttar Pradesh

Prem Krishna Khanna का इतिहास

उनका जन्म 2 जनवरी 1894 को लाहौर में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में है। वह अपने माता-पिता की इकलौती संतान थे। Prem Krishna Khanna एक अमीर परिवार से ताल्लुक रखते हैं।

उनके पिता Ram Krishna Khanna थे, जिन्होंने भारतीय रेलवे शाहजहांपुर के डिवीजन प्रमुख के रूप में काम किया था।

Ram Krishna Khanna को उनकी ईमानदारी और मेहनती निर्वहन कार्य के लिए ब्रिटिश सरकार द्वारा रायबहादुर ताज से सम्मानित किया गया था। उनका जन्म उस समय हुआ था जब उनके पिता को लाहौर भेजा गया था। Prem को उनके माता-पिता ने अलग-अलग जगहों पर पाला था।

Prem Krishna Khanna Freedom Fighter

बचपन से ही उन्हें पढ़ने का बहुत शौक था। Krishna Khanna ने अपनी पाठ्यपुस्तकों को पढ़ने के बजाय एक देशद्रोही प्रकृति की किताबें पढ़ना शुरू किया जो विभिन्न क्रांति के इतिहास से संबंधित हैं। Krishna Khanna राजनीति और कांग्रेस में सक्रिय थे।

मौसर पिस्टल के लिए Krishna Khanna लाइसेंस

Krishna Khanna एक धनी व्यक्ति थे। उनके पिता का ब्रिटिश अधिकारियों में एक प्रतिष्ठित नाम था। रेलवे अधिकारियों से अनुबंध प्राप्त करने का एकमात्र कारण उनके पिता थे। Prem Krishna Khanna ने रेलवे के लिए एक ठेकेदार के रूप में अपनी पहली नौकरी शुरू की।

उसने रेलमार्ग पर जो काम किया उसमें ठगों और चोरों का खतरा था। तब Krishna Khanna ने अपनी निजी सुरक्षा के लिए मौसर गन के लिए गन लाइसेंस प्राप्त किया।

उस समय मौसर गन को सबसे अच्छा हथियार माना जाता था। यह बंदूक उनकी व्यक्तिगत सुरक्षा के साथ-साथ सभी प्रकार के क्रांतिकारी कार्यों के लिए उपयोगी थी।

Krishna Khanna Ram Prasad Bismil के साथ एक क्रांतिकारी कार्यकर्ता के रूप में

कई क्रांतिकारी किताबें पढ़ने के बाद Krishna Khanna को अधिक देशभक्ति महसूस हुई। वह उस क्रांतिकारी संगठन में शामिल हो गए जिसका नाम हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन था।

पंडित Ram Prasad Bismil एक ऐसे व्यक्ति थे जो अभी भी आग्नेयास्त्रों और गोला-बारूद की तलाश में हैं।

Bismil ने Prem Krishna Khanna से संपर्क किया और उन्हें बिस्मिल के नेतृत्व वाले सहयोगियों में शामिल होने की अनुमति दी। Khanna ने Ram Prasad Bismil के साथ घनिष्ठ संबंध स्थापित किए हैं।

कोकरी की साजिश और उसकी मौत में Krishna Khanna

Krishna Khanna ने Ram Prasad Bismil और रिपब्लिकन हिंदू एसोसिएशन के अन्य सदस्यों द्वारा आयोजित क्रांतिकारी गतिविधियों में जोरदार भाग लिया।

9 अगस्त, 1925 को, Bismil और उनके क्रांतिकारी सहयोगियों ने सरकार के खजाने को चुराने की योजना बनाई, जिसे अंग्रेजों ने आठवीं यात्री ट्रेन डाउन शरणपुर-लखनऊ में पहुँचाया था।

इस काम में भाग लेने वाले अधिकांश सदस्यों को ब्रिटिश पुलिस ने पकड़ लिया और लाहिर, Bismil और Khan सहित मौत की सजा सुनाई।

जब वे उत्तर प्रदेश में रहे तो वे स्वतंत्रता सेनानी(Freedom Fighter) के कल्याण के लिए जीवित रहे। लेकिन Prem Krishna Khanna को 5 साल जेल की सजा हुई। उनके 100वें जन्मदिन से ठीक 6 महीने पहले 3 अगस्त को उनका निधन हो गया।


Spread Love

Leave a Reply

Your email address will not be published.